≡ ▼
ABC Homeopathy Forum

 

 

Remedy Finder:

Erectile DysfunctionPremature Ejaculation

 

 

Posts about Erectile Dysfunction, Premature Ejaculation

erectile dysfunction25Prostatorrhea, weakness and Erectile Dysfunction152Erectile dysfunction1Premature Ejaculation1Premature Ejaculation5Premature Ejaculation1Premature Ejaculation4Premature ejaculation10Erectile Dysfunction5Erectile Dysfunction1

 

The ABC Homeopathy Forum

Primary Premature ejaculation and erectile dysfunction. please suggest solution

Age -41, Height - 5ft. 10 inch, weight- 90kg

मेंटल स्टेट
1. हर समय कोई न कोई विचार चलता रहता हैं ख़ास तौर पर व्यापार बढ़ाने से सम्बंधित या सेहत सम्बन्धी, एकाग्रता नही होती।
2. किसी भी एक बात पर अडिग नही रहता, जैसे कुछ दिन gym का शौक़ रहा फिर कुछ दिन आयुर्वेद का फिर म्यूजिक, किसी भी चीज़ को बहुत उत्साह से स्टार्ट करता हूं और बीच मे हो छोड़ देता हुँ। किसी भी चीज़ को बहुत जल्दी सीखता हूँ लेकिन उसमें परफेक्ट नही हो पाता क्योंकि लापरवाही दिखाता हूँ।
3 पुरानी बातें और नाम याद हैं लेकिन नए लोगो के और जगहों के नाम याद नही रहते
4 पुरानी खण्डर इमारतों के डरावने सपने अक्सर आते हैं।
5 भविष्य की आर्थिक स्थिति को लेकर शंका रहती हैं।
6 अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहता हूँ। इस सम्बंध में किसी से बात करने में संकोच भी नही होता।
7 अंधेरी और सुनसान जगह पर डर लगता हैं, यदि घर मे अकेला हूँ तो रात को डर लगता हैं क्योंकि बचपन मे ताऊ जी को भूत प्रेतों से सम्बंधित समस्या हुई थी तो वो अजीब और डरावनी बातें देखी थी। यहाँ तक कि अकेले कमरे में सो भी नही सकता ऐसा लगता हैं कोई मुझे देख रहा हैं।
8 धार्मिक स्वभाव हैं। ज़्यादा परेशान होने पर अपनी समस्या ईश्वर के समक्ष रखता हूँ।
9 किसी भी चीज़ की अपने मन मे कल्पना करता रहता हूँ जैसे यदि कहीं पर जाना है मिलने के लिए तो पहले से ही कल्पना कर लेता हूँ कि वो मुझसे क्या कहेंगे तो मै क्या उत्तर दूँगा। बचपन मे day ड्रीमिंग करता था Fantacy 1st क्लास से ही। अभी भी यदि किसी से कुछ नही कह पाता तो मन मे कल्पना करता हूँ, कि उससे यह कहना था फिर उसका जवाब भी सोच लेता हूँ।

स्वभाव
1. ज़्यादा बाते करनी नही आती अपने कार्यछेत्र से सम्बन्धी कितनी भी बात कर सकता हूँ लेकिन जनरल बाते जो अक्सर मिलने जुलने पर लोग करते हैं वो नही हो पाती।
2 शर्मिला और संकोची हूँ, अपनी बात किसी से खुलकर नही कह पाता खासतौर पर जिसमें मुझे सहायता चाहिए होती हैं, किसी भी अनुचित बात को जो सामने वाला मेरे साथ कर रहा हैं उसे अपनी अधिकतम सीमा तक सहन करता हूँ और कभी कभी टोक भी देता हूँ लेकिन उससे डांट कर नही कह पाता बेशक वो मेरा कर्मचारी ही हो, मुझे लगता हैं उसे बुरा लगेगा और मेरी इज्ज़त ख़राब होगी। अगर यही व्यक्ति मुझसे ओहदे में बड़ा है तो मै टोकता भी नही केवल सहन करता हुँ।
ऐसा इसलिए भी हैं कि घर मे सबसे छोटा रहा सभी मुझे डांटते रहे और मेरी कमियां बताते रहे और मैं कभी विरोध नही कर पाया। अभी भी अपने बड़े भाई के साथ ही काम करता हूँ, 15 साल तक कोचिंग पढ़ाई सुबह 5 बजे से लेकर रात 9 बजे तक लगातार, ऐसा नही है कि मुझे पढ़ाना अच्छा लगता था, मुझे इसलियें ऐसा करना पड़ा क्योंकि मैं CA नही कर पाया और कोई option मेरे सामने घर वालों ने नही रखा, अर्थात जो बड़े भाई ने कहा मैने इच्छा ना होते हुए भी उसे माना। 10th class के बाद biology लेने की इच्छा थी लेकिन बड़े भाई ने commerce ली थी और CA किया था तो मुझे भी वही लेनी पड़ी, CA करने की इच्छा नही थी लेकिन पापा की आर्थिक स्थिति भी ऐसी नही थी कि कोई महँगा कोर्स कर सकूं इसलिए एडजस्ट किया। जब कोचिंग बन्द करी तब स्कूल खोलने का मन था finacial पोजीशन भी थी लेकिन decision लेने की पॉवर मेरे पास नही थी बड़े भाई की इच्छानुसार टैक्स ऐडवोकेट बन गया। आज भी बहुत से बिज़नेस प्लान दिमाग मे आते हैं उन्हें बड़े भाई को बताता हूँ लेकिन मुझे डाँट दिया जाता हैं और प्लान रदद् हो जाता हैं, यहां तक कि अपने बच्चों और बीवी को कही बाहर (शहर से बाहर)ले जाने के लिए मैं पूछता हूँ इस डर के साथ कही भाई को बुरा ना लगे और मना ना कर दे, इस बात से आपको मेरी बीवी की मानसिक स्थिति का भी पता चल गया होगा वो मुझे भाई का और परिवार का गुलाम समझती हैं, मैं उसे बहुत समझाता हूँ और अपनी किस्मत को दोष देता हूँ।
3. यदि मैं किसी से नाराज़ होता हूँ या किसी की कोई बात बुरी लग गयी तो चुप हो जाता हूँ कुछ नही बोलता या ये कहे उस व्यक्ति से बोलने का या उसकी शक्ल तक देखने का मन नही करता यदि वह कोई बाहर का व्यक्ति हैं तो उससे मिलता ही नही या उस स्थिति से बचने की कोशिश करता हैं।
4. ज्यादा शोरगुल की जगह या भीड़भाड़ वाली जगह पसन्द नही, वहां जाने से बचता हूँ। ख़ाली समय मे लेटना पसन्द करता हूँ। moody हूँ मन नही हैं तो किसी भी काम को करने में बहुत आलस दिखाता हूँ और यदि कोई काम मेरे मन का हैं तो चाहता हूँ वो तुरन्त हो।
5.बचपन मे जब कोई रेलटिव आते थे तो छुप जाता था उनसे मिलने मे शर्म आती थी क्योंकि हीन भावना थी कि हमारा घर अच्छा नहीं है ।
6. किसी भी नए व्यक्ति से बातचीत स्टार्ट नहीं करता अपनी तरफ से वो कुछ पूछता है या बात करता है तो शॉर्ट मे ही answer देता हूँ। किसी कि personal life मे interfare नहीं करता और न ही अपनी तरफ से बिना मांगे कोई suggestion देता हूँ ।
7. लड़कियों कि तरफ बचपन से ही आकर्षण रहा fantacy day dreaming करता रहा लेकिन किसी से न तो कभी बात कि और न ही कभी किसी को छेड़ा या घूर कर देखा मुझे ऐसा करना below standard लगता था और अभी भी है।
8. ज्यादा ठंड और गर्मी दोनों ही अच्छे नहीं लगते लेकिन गर्मी आसानी से सहन हो जाती है, सबसे अच्छा बारिश का मौसम लगता है।
9. बहुत भावुक हूँ किसी कि भी बातों मे जल्दी या जाता हूँ, imotional सीन मे आँसू भी आसानी से आ जाते है, किसी कि भी मदद के लिए ready रहता हूँ अगर वह मेरे contorl मे है अगर मेरे control से बाहर है तो मना कर देता हूँ ।


like & dislikes
1. बारिश सबसे अच्छी लगती है। नीला रंग पसंद है, मीठा और चटपटा दोनों ही अच्छे लगते है । 2. म्यूजिक पसंद है गजल या सेमी क्लैसिकल, गहरे पानी से, reptiles से घबराहट होती है
3. पेट के बल सोता हूँ

डिसिस हिस्ट्री
1. बचपन मे 2 बार चिकन पॉक्स हुआ।
2. बहुत चोटी उम्र से mustarbation किया (1 st class) लेकिन 8 th मे पूरी तरह छोड़ दिया उसके बाद spermatorreah कि प्रॉब्लेम रही युरन के बाद और stool के टाइम पर semen जाता था और शादी तक ठीक नहीं हुआ पूरी तरह से।
3. dengue 2008 मे हुआ उसके बाद से occasionaly drink करने पर पेट मे भारीपन और uneasyness और hangover हो जाता है 60 ml से भी।
4. 1999 तक constipation रहता था उसके बाद से sticky और offensive smell के साथ sticky मोशन होता है
5. 2003 से सुखी खांसी रहती है और गला अक्सर खराब रहता है और सुबह को उठने पर छींक आती है और जुकाम रहता है। धूल और डस्ट से ऐलर्जी है छींक आती है और नाक से पानी बहता है, कोई भी खूसबु लगाने पर सिर मे दर्द हो जाता है।
6. असिडिटी और gas कि समस्या 1999 से है कभी पूरी तरह ठीक हो जाती है कभी होने लगती है, वन्स इन अ वीक antacid कैप्सल लेना पड़ता है। bp 2008 से है Telma 20 लेता हूँ उससे सही रहता है।
7. भूखे रहने पर तेज़ धूप मे रहने पर सिर मे दर्द हो जाता है जो सिर के पीछे से स्टार्ट होता है और सिर के लेफ्ट साइड मे या जाता है। सर्दी लगने पर भी माथे मे दर्द हो जाता है।
8. सुबह उठने पर बहुत आलस रहता है और शरीर मे मीठा मीठा दर्द रहता है और शरीर दबवाने कि इच्छा होती है साथ ही दबवाने पर आराम भी मिलता है, इसके अलावा पूरे दिन शरीर मे सुस्ती रहती है जोकि रात होते होते ठीक होती जाती है।
9. प्राइमेरी premature ejaculation है since marriage और ed last 4 एयर्स से है । cohabitation के 3-4 दिन बाद ही पेट के निचले हिस्से मे टिककलिंग sensation होने लगती है और uretha मे कभी चुभन या टिककलिंग होने लगती है और ऐसा लगता है ejaculation हो जाएगा, penile sensitivity बहुत ज्यादा है।

i have consulted to Doctors and already used
Acid phos 30
agnus castus 30
selenium 30
phosphorus 30
lycopodium 30
sepia 200
natrum mur 30
lechesis 200
staphysagria 30
damiana Q, Ginseng Q, Yohimbinum Q, Ashwagandha Q.

all these medicine may be effective to some one but no meaning for me i want to get my constitutional medicine. and i think i am carcinocin, but not sure need guidance.....please
[Edited by Schoolboy on 2020-11-11 13:40:13]
 
  Schoolboy on 2020-11-11
This is just a forum. Assume posts are not from medical professionals.

Post ReplyTo post a reply, you must first LOG ON or Register

 

Important
Information given in this forum is given by way of exchange of views only, and those views are not necessarily those of ABC Homeopathy. It is not to be treated as a medical diagnosis or prescription, and should not be used as a substitute for a consultation with a qualified homeopath or physician. It is possible that advice given here may be dangerous, and you should make your own checks that it is safe. If symptoms persist, seek professional medical attention. Bear in mind that even minor symptoms can be a sign of a more serious underlying condition, and a timely diagnosis by your doctor could save your life.